Money Management Tips to Follow in 2019


नई दिल्ली: 2019 आने वाला है. इस साल भी हर बार की तरह हम खुद से कई वादे करेंगे, जैसे सेहत पर ज्यादा ध्यान देना, आर्थिक मामलों में अनुशासन और पैसों के मामलों में स्ट्रॉन्ग रहने के लिए सही निवेश करना. लेकिन आप और हम में से सिर्फ कुछ ही लोग इन वादों को पूरा कर पाते हैं. ज्यादातर लोग इन्हें निभाने में नाकाम रहते हैं. लेकिन हमें यह समझना होगा कि सेहतमंद और सुखी रहना है तो निजी अर्थव्यवस्था का सही नियोजन जरूरी है. इसके लिए आपको आर्थिक मामलों में कुछ ठोस निर्णय लेने होंगे जो आपको अपने आर्थिक लक्ष्यों के पास ले जाएंगे. यह रिटायरमेंट के बाद सुखी जीवन के लिए या घर खरीदने के लिए डाउनपेमेंट देने के लिए बचत या फिर आर्थिक रूप से सुरक्षित भविष्य के लिए बचत करना हो सकता है.  

ज्वेलरी शॉप से सोने की चेन चुराकर भाग रहा था चोर, मालिक ने किया ऐसा, देखें VIDEO​

1. अपने आर्थिक मामलों पर एक बार फिर सोचें और लक्ष्य तय करें

अपनी संपत्तियों (आमदनियों) और जिम्मेदारियों का लेखा-जोखा करें. आर्थिक मामलों की समीक्षा करें. यह जानने की कोशिश करें कि पैसा कैसे काम करता है. उदाहरण के लिए यदि आप क्रेडिट कार्ड का खर्च कम कर देते हैं तो आपकी देनदारी कम हो जाएगी. इसलिए कि कई लोग इससे जोश में आकर अनावश्यक खरीदारी कर लेते हैं. ऐसी खरीदारी ना कर ज्यादा बचत कर सकते हैं. यह सोचना जरूरी है कि आप किन उद्देश्यों से बचत करना चाहेंगे (बच्चों की शिक्षा, नया घर, कार, ड्रीम हॉलिडे, आदि) और यह भी विचार करें कि कितने समय तक बचत करने से आपके ऐसे लक्ष्य पूरे हो जाएंगे.

विराट-अनुष्का के बाद पीएम मोदी ने निक-प्रियंका को भी थमाया SAME तोहफा, खुद ही देख लें​

2. बजट बनाने की आदत डालें

अगले साल के लिए बजट बनाने का इससे बेहतर समय नहीं मिलेगा. आम तौर पर होता यह है कि आपका बजट तो बिल्कुल तैयार होता है, पर आप इसके हिसाब से चलने में चूक कर देते हैं. बजट के हिसाब से चलेंगे तो न केवल आपके सभी खर्चों को पूरा करने का भरोसा रहेगा, बल्कि आपके आर्थिक लक्ष्य भी पूरे हो जाएंगे. ध्यान रखें, यदि किसी चीज की इच्छा से आपका मन मचल जाता है तो आप कर्ज में पड़ सकते हैं और आमद में भी रुकावट आ सकती है.

3. परिवार से सलाह-मशविरे के बाद ही आर्थिक मामलों में निर्णय लें

बच्चों को भी बचत के लाभ बताएं और फिजूलखर्ची से बचने की सलाह दें. उन्हें आर्थिक मामलों की बुनियादी बातें बताकर आप परिवार के आर्थिक लक्ष्यों को आसानी से पूरा कर पाएंगे. घर का बजट आपस में मिलकर बनाएं ताकि सभी बचत और खर्च करने में भागीदारी करें और जिम्मेदारी बराबर बंट जाए.

4. सेहत के नाम पर बचत की शुरुआत करें

अच्छी सेहत के लिए स्वास्थ्य योजना बनाने में तत्परता दिखाएं. संपूर्ण स्वास्थ्य बीमा जैसे अवीवा हेल्थ सिक्योर में निवेश इसका अच्छा उदाहरण है, क्योंकि आप जानते हैं कि इलाज कितना महंगा हो रहा है और कैसे चिकित्सा बीमा, खास कर मेडिकल इमरजेंसी में आपकी मदद करता है. इलाज के भारी खर्च से परिवार को आर्थिक संकट में जाने से बचाने के लिए बीमा में निवेश एक शानदार बचत है.

5. बच्चों के भविष्य की योजना बनाएं

अवीवा ने पूरे देश में किए एक सर्वे के माध्यम से जाना कि अधिकांश भारतीय माता-पिता के लिए उनके बच्चे की शिक्षा सबसे बड़ी प्राथमिकता है. हालांकि इसके लिए अधिकांश लोगों में सही योजना का अभाव देखा गया है. इसलिए बच्चों की उच्च शिक्षा पर खर्च करते हुए वे कर्ज में डूब जाते हैं. हालांकि आज अवीवा किड-ओ-स्कोप जैसी विशेष सेवाओं का लाभ लेकर वे न केवल अपने बच्चे के अंदर छिपी प्रतिभा समझ जाएंगे बल्कि शिक्षा के कॉस्ट कैलकुलेटर की मदद से यह भी जान पाएंगे कि बच्चों के सपने पूरे करने में कितना खर्च होगा. इसके बाद उन्हें निवेश के सही रास्ते बताए जाएंगे ताकि जरूरत आने पर फंड तैयार रहे. 

6. आप अपनों का भविष्य सुरक्षित कर दें

जीवन बीमा का आपके आर्थिक नियोजन में बुनियादी महत्व है. इसलिए यह ध्यान रखना होगा कि आपके पास पर्याप्त बीमा हो और आपके परिवार का आर्थिक भविष्य सुरक्षित हो. यह सोच कर योजना बनाएं कि जिसकी आमदनी से परिवार चलता है उसके गुजरने के बावजूद परिवार का वही जीवन स्तर बरकरार रखने के लिए कितनी रकम चाहिए. इसका एक अच्छा विकल्प अवीवा आई-टर्म स्मार्ट है जो सब के बजट में है और बीमित के साथ-साथ उसके ‘परिवार’ को संपूर्ण सुरक्षा देता है.

अवीवा लाइफ इंश्योरेंस की मुख्य ग्राहक, विपणन और डिजिटल अधिकारी अंजलि मल्होत्रा ने 6 सुझाव दिए हैं, जिस पर अमल कर आप आर्थिक रूप से खुशहाल हो सकते हैं.

इनपुट – आईएएनएस

VIDEO: नौजवान कैसे करें पैसा निवेश?​



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

© Copyright YashRajExpress News. All Right Reserved | Developed & Powered By Technical Next Technologies